Home » Archive

Articles tagged with: सिनेमा

साहित्य-सिनेमा-जीवन »

[13 Apr 2012 | Comments Off on अभिनेता जाकिर हुसैन बने दारा शिकोह | ]
अभिनेता जाकिर हुसैन बने दारा शिकोह

इन दिनों दूरदर्शन पर हर रविवार सुबह १० बजे प्रसारित हो रहा है धारावाहिक ‘उपनिषद गंगा’. चिन्मय मिशन द्वारा निर्मित व डॉ चन्द्रप्रकाश दिव्वेदी द्वारा निर्देशित इस धारावाहिक ‘उपनिषद गंगा’ में अलग — अलग कहानियाँ दिखाई जा रही हैं.
अगले रविवार यानि ८ अप्रैल को अभिनेता जाकिर हुसैन दारा शिकोह की भूमिका में दिखाई देंगे. “अभी तक दारा शिकोह को बहुत सारे लोग सिर्फ औरंगजेब के बड़े भाई के रूप में ही जानते थे लेकिन इस धारावाहिक को देखने के बाद उन्हें पता चलेगा कि वो कितना गुणी था, कितना काबिल …

विचार, है कुछ खास...पहला पन्ना »

[12 Apr 2012 | One Comment | ]
शांकुतलम् के बंद होने का मतलब…

– देवाशीष प्रसून
शाकुंतलम थियेटर बंद हो गया है। यह दिल्ली के प्रगति मैदान जैसी शांत जगह पर पिछले तीन दशकों से लगातार चल रहा था। शाकुंतलम थियेटर, याने सिनेमाघरों के बीच शांत स्वभाव के मध्यवर्गीय, सभ्य, पढ़े-लिखे लोगों की पहली पसंद। भारत सरकार के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के तहत चलने वाले इंडिया ट्रेड प्रोमोशन ऑर्गनाइजेशन का प्रबंधन इसको और चलाते रहने की जरूरत नहीं समझता और इस कारण से इसको बंद करके कॉनफ्रेंस हॉल बनवाना चाहता है। जो लोग दिल्ली में नहीं रहते और शाकुंतलम थियेटर से वाकिफ नहीं …

साहित्य-सिनेमा-जीवन, है कुछ खास...पहला पन्ना »

[15 Jun 2011 | Comments Off on प्रिव्यू / ईस्‍ट इज ईस्‍ट’ के बाद अब ‘वेस्‍ट इज वेस्‍ट’ | ]
प्रिव्यू / ईस्‍ट इज ईस्‍ट’ के बाद अब ‘वेस्‍ट इज वेस्‍ट’

अजित राय। मूल तो बिहार है, दिल्ली में इतना बड़ा प्रवास कि अब दिल्लीवाले ही लगते हैं, लेकिन अंदाज़ में खांटीपना शेष है। देश के चर्चित घुमक्कड़ पत्रकार हैं। हंस के सांस्कृतिक संवाददाता रहे। जनसत्ता समेत बहुतेरी, बहुविध की पत्रिकाओं में देश की कल्चरल हलचल को रेखांकित-विश्लेषित करते रहे हैं। सिनेमा से उन्हें नया ही प्यार हुआ है, लेकिन ये मोहब्बत कोई कच्ची नहीं है। पकती हुई उम्र में सेल्युलाइड से इश्क भी पक्का ही है, सो अब रंगकर्म और साहित्य के अलावा, सिनेमा पर भी उनकी कलम अच्छी तरह …