Home » Archive

Articles tagged with: अभिषेक गोस्वामी

साहित्य-सिनेमा-जीवन »

[10 Apr 2011 | One Comment | ]
अभिषेक गोस्वामी की तीन कविताएं

अभिषेक गोस्वामी, यानी रंगकर्मी, लेखक, कवि, कलाकार। उफ़, एक जिस्म में इतने हुनर। जयपुर में रहते हैं। राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय की टाई कंपनी से जुड़े रहे। फिलवक्त, अभिषेक एक मल्टी नेशनल कंपनी के महत्वपूर्ण और महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट से जुड़े हैं, लेकिन वो एमएनसी वर्कर नहीं हैं…थिएटर वर्कर ही हैं, यानी वहां भी नाट्यकला की पढ़ाई-लिखाई के काम में जुटे हैं। चौराहा पर अभिषेक की कुछ कविताएं :
 
अब क्या कहूँ?
कैसे बताऊँ?
पर कहना ही होगा.
जिस बड़े बाज़ार की
सबसे ऊपरी मंजिल पर 
खेल रहे हैं
हमारे बच्चे
मेरी कविता की
तोप का मुंह
उसी दिशा में है
जिसके …

दिल के झरोखे से... »

[28 Mar 2011 | Comments Off on मेरी जां फकत चन्द रोज़ और | ]
मेरी जां फकत चन्द रोज़ और

 
 
 
 
 
 
 
एक
मेहनतकश
हुनरमंद
और
अमनो सुकून
पाने की कोशिश
में मुब्तिला
हथेलियों की
गहराई लकीरों
को देखकर
एक नजूमी
ने कहा
“चन्द रोज़ और
मेरी जाँ
फकत
चन्द रोज़ और”
फिर?
फिर
आदत हो आएगी.
– अभिषेक गोस्वामी की काव्यकृति, चित्र : google

कैमरा बोलता है... »

[26 Mar 2011 | Comments Off on …पैरों में बिवाई है | ]
…पैरों में बिवाई है

आप जानते हैं अदम गोंडवी को? अजीम शायर. दुनिया भर के लोग उन्हें जानते-पहचानते-समझते बूझते हैं। मैंने अदम जी को देखा, पहचाना और अभिभूत भी हुआ हूं। वो शायद नहीं जानते होंगे, लेकिन उनके शहर का होने के नाते गौरवान्वित और कुछ ज्यादा ही अकड़ी गर्दन लेकर फिरने का हुनर हम बहुत पहले से रखते हैं।
ख़ैर, जयपुर के रहने वाले मित्र अभिषेक गोस्वामी की कैमरा-कृति मिली, तो एकबारगी अदम जी की ही पंक्तियां याद हो आईं।
अभिषेक मंच पर जादू रचते हैं, कलम से मुग्ध करते हैं और कैमरे से …

दिल के झरोखे से..., संगीत-कला »

[25 Mar 2011 | 2 Comments | ]
न कोई दोज़ख, न कोई जन्नत…

बेचैन सुबहों, अर्थहीन दोपहरियों और थकी हुई सांझों के बीच खुद के होने और बिखरते जाने के अंतराल में हंसी-खुशी बांटने की ख्वाहिशों और पपड़ाए सपनों की किरचें ढोने के अजब-से प्रतीक अभिषेक गोस्वामी की कविता में मिलते हैं। उनसे फेसबुक पर मिला था, रूबरू अब तक नहीं हुआ। पता नहीं, कभी मिलेंगे या नहीं, लेकिन अब तो बातों, ख़यालों और अहसासों में हर उस पल मुलाक़ात होती-सी दिखती है, जब भी तनहाई और अर्थहीनता का आलम जेहन को घेर लेता है। चौराहा के पाठकों के लिए जयपुर के अभिषेक …