Home » चर्चाघर

डायरी के पन्नों से निकलकर एक कहानी परदे तक…

26 March 2012 One Comment

– पीयूष पांडेय

अर्थ, सारांश, हम हैं राही प्यार के और गुमराह जैसी कई चर्चित फिल्मों के पटकथा लेखक स्वर्गीय सुजीत सेन की डायरी के पन्नों से निकली एक कहानी रुपहले पर्दे पर अफसाना लिखने को तैयार है। ‘लाइफ इज गुड’ नाम से बन रही यह फिल्म प्रदर्शन के लिए तैयार है। इस फिल्म का निर्देशन जाने-माने चरित्र अभिनेता अनंद महादेवन ने किया है, जबकि मुख्य भूमिका में जैकी श्राफ, रजत कपूर, मोहन कपूर और नकुल सहेदव जैसे मंजे कलाकार हैं।

‘लाइफ इज गुड’ इस मायने में अलग है कि फिल्म सुजीत सेन की जिंदगी में घटित घटनाओं से प्रेरित है। फिल्म का मुख्य किरदार यानी रामेश्वर अपनी मां के निधन के बाद पूरी तरह टूट जाता है। तब उसकी जिंदगी में एक छह साल की बच्ची मिष्टी उम्मीद की नयी किरण लेकर आती है और उसके जीने का नजरिया बदल देती है। फिल्म वास्तविक कहानी से प्रेरित है, लेकिन व्यवसायिक दृष्टिकोण का पूरा ख्याल रखा गया है। फिल्म के निर्माता आनंद शुक्ला बताते हैं,”यूं फिल्म की कहानी सुजीत दा की डायरी से ही निकली है। लेकिन, इसे नए रुप में संवारा गया है। फिल्म में कई ऐसे अवसर हैं, जहां दर्शक भावुकता में रो पड़ेंगे तो कई दृश्य उनके चेहरे पर मुस्कुराहट बिखेर देंगे। फिल्म के स्क्रीनप्ले को जानदार बनाने में के लिए अनंत महादेवन और वर्षा जैन ने खासी मशक्कत की है।”

आनंद शुक्ला का दावा है कि फिल्म में जैकी श्राफ की निभाई भूमिका उनकी सर्वश्रेष्ठ भूमिकाओं में है। वह कहते हैं, “जैकी श्राफ का चयन अनंत महादेवन के कहने पर हुआ। जैकी श्राफ लेखक सुजीत सेन के बहुत अच्छे मित्रों में थे। सुजीत दा भी उन्हें बहुत मानते थे। जैकी श्राफ को उनकी यह कहानी हमने सुनाई तो वो फौरन राजी हो गए। इसके बाद जिस शिद्दत से उन्होंने अपनी भूमिका को निभाया है, वह देखने काबिल है।

एकता आनंद बैनर तले बन रही ‘लाइफ इज गुड’ में अभिषेक राय और आशा भोसले ने संगीत दिया है। फिल्म को मई के आखिरी या जून के पहले हफ्ते में रिलीज करने की योजना है।

One Comment »