Home » Archive

Articles Archive for December 2012

साहित्य-सिनेमा-जीवन, है कुछ खास...पहला पन्ना »

[12 Dec 2012 | Comments Off on हे आमिर! उल्लू नहीं है पब्लिक | ]
हे आमिर! उल्लू नहीं है पब्लिक

जनसत्ता के समांतर स्तंभ में चौराहा से साभार प्रकाशित
– चण्डीदत्त शुक्ल
आमिर खान साहेब नहीं आए। बुड़बक पब्लिक उन्हें `तलाश’ करती रही। सिर्फ पब्लिक नहीं, बांग्ला मिजाज़ में कहें तो भद्रजन भी। पुलिसवाले और लौंडे-लपाड़ियों के अलावा, शॉर्ट सर्विस कमीशन टाइप पत्रकार, रिक्शा-साइकिल-मोटरसाइकिल स्टैंड वाले भी। चौंकिएगा नहीं, शॉर्ट सर्विस बोले तो कभी-कभार ये धंधा कर लेने वाले। एक यूनिवर्सिटी में इंजीनियरिंग पढ़ने वाले तमाम सत्रह-अठारह साल के छोरे-छोरियां पूरा का पूरा विश्वविद्यालय बंक करके उस भुतहा बस्ती में बिचर रहे थे। पहले उछलते-कूदते, फिर एक ग्लास पानी के लिए छुछुआते …

दिल के झरोखे से..., है कुछ खास...पहला पन्ना »

[7 Dec 2012 | Comments Off on इस सदी की निहायत अश्लील कविता | ]
इस सदी की निहायत अश्लील कविता

– चण्डीदत्त शुक्ल @ 08824696345
*

जरूरी नहीं है कि,
आप पढ़ें
इस सदी की, यह निहायत अश्लील कविता
और एकदम संस्कारित होते हुए भी,
देने को विवश हो जाएं हजारों-हजार गालियां।
आप, जो कभी भी रंगे हाथ धरे नहीं गए,
वेश्यालयों से दबे पांव, मुंह छिपाए हुए निकलते समय,
तब क्यों जरूरी है कि आप पढ़ें अश्लील रचना?
यूं भी,
जिस तरह आपके संस्कार जरूरी नहीं हैं मेरे लिए,
वैसे ही,
आपका इसका पाठक होना
और फिर
लेखक को दुत्कारना भी नियत नहीं किया गया है,
साहित्य के किसी संविधान में।
यह दीगर बात है कि,
हमेशा यौनोत्तेजना के समय नहीं लिखी जातीं
अश्लील कविताएं!
न ही पोर्न साइट्स …