Home » Archive

Articles Archive for May 2011

गांव-घर-समाज, साहित्य-सिनेमा-जीवन »

[26 May 2011 | One Comment | ]
मनोज भावुक को राही मासूम रज़ा सम्मान

वाराणसी में आयोजित विश्व भोजपुरी सम्मलेन के प्रांतीय अधिवेशन में भोजपुरी भाषा को समर्पित युवा साहित्यकार मनोज भावुक को भोजपुरी साहित्य व भोजपुरी फिल्म के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए राही मासूम रज़ा सम्मान से नवाजा गया है . उन्हें सम्मान प्रदान किया उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्य मंत्री व कांग्रेस सांसद जगदम्बिका पाल ने.
विश्व भोजपुरी सम्मलेन की उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष डॉक्टर अशोक सिंह ने कहा, “2 जनवरी 1976 को सीवान (बिहार) में जन्मे और रेणुकूट (उत्तर प्रदेश ) में पले- बढ़े मनोज भावुक भोजपुरी के सुप्रसिद्ध …

कैमरा बोलता है..., है कुछ खास...पहला पन्ना »

[26 May 2011 | 2 Comments | ]
ये महज फोटोग्राफ नहीं हैं…

यह चित्र नए नहीं हैं. इंटरनेट की दुनिया में टहलते हुए आने आक्सर ऐसे फोटो ग्राफ देखे होंगे. राजस्थान के मशहूर जर्नलिस्ट ईश मधु तलवार ने इन्ही चित्रों की इ-मेल भेजी, तो सोचा चौराहा के लिए साझा कर लूं.
चण्डीदत्त शुक्ल

साहित्य-सिनेमा-जीवन, है कुछ खास...पहला पन्ना »

[23 May 2011 | Comments Off on एंड द अवार्ड गोज़ टू दबंग… | ]

मयंक खुद्दार हैं और इसका उन्हें कोई गुमान नहीं…वो कहते हैं ईमानदार होना विशिष्टता कैसे? ईमान क्या दुर्लभ चीज है? अगर हो ही गयी है तो म्यूज़ियम में क्यों रखें? सच बोलता हूं क्योंकि सच्चा हूं। सर झुकाता नहीं हूं, न ही झुकाऊंगा। फिलहाल तक यही सोचा है कि कटने की नौबत आने पर भी नहीं। खुद्दारी, सच और मुफ़लिसी का नाता ब्लाउज़ और बटन जैसा है….सो मयंक महीनों तक बेरोज़गार भी रहे हैं पर मजाल जो भूख घुटने झुका दे….मयंक फिलहाल बारोज़गार हो गए हैं…लेकिन जियो मर्दवा बहुतेरे शुभचिंतकों की …

गॉसिप »

[22 May 2011 | 2 Comments | ]

मैग्ज़ीन ‘अहा ज़िंदगी’ और ‘भास्कर लक्ष्य’ के लिए कार्य करेंगे : पत्रकार चण्डीदत्त शुक्ल ने दैनिक भास्कर समूह की मैग्ज़ीन डिवीज़न में फीचर एडिटर के रूप में नई पारी शुरू की है। वे मैग्ज़ीन अहा ज़िंदगी और करियर बेस्ड एजुकेशनल मैग्ज़ीन भास्कर लक्ष्य के लिए कार्य करेंगे। डेढ़ दशक से  हिंदी पत्रकारिता से जुड़े चण्डीदत्त शुक्ल प्रिंट, टेलिविजन, रेडियो और साइबर माध्यमों में कार्य कर चुके हैं। दैनिक जागरण में चण्डीदत्त ने फीचर विभाग से शुरुआत कर हरियाणा प्रदेश प्रभारी और जागरण सिटी दिल्ली के लॉन्चिंग प्रभारी की भूमिका भी …

है कुछ खास...पहला पन्ना »

[21 May 2011 | One Comment | ]
बेहतर दुनिया एक असंभव ख्वाब है!

वरिष्ठ पत्रकार, लेखक, अफसानानिगार और पोएट डॉ. दुष्यंत का एक और लेख, चौराहा की ओर से शुक्रिया.