Home » Archive

Articles in the देस-परदेस Category

देस-परदेस, साहित्य-सिनेमा-जीवन »

[1 Feb 2017 | Comments Off on LION roars with a grand premiere in India! | ]

Mumbai Desk : After having stormed the world with several accolades and currently in contention for 6 Oscar Nominations, LION directed by Garth Davis saw its India premiere in Mumbai last night! To make the occasion special was the presence of the director Garth Davis who addressed the audience and spoke much about the passion that went behind the story of Saroo Brierley, who too was present at the premiere.
Garth Davis said, “I hope India likes the film. It’s made with a lot of passion and heart. India has had …

गांव-घर-समाज, दिल के झरोखे से..., देस-परदेस, विचार, है कुछ खास...पहला पन्ना »

[16 Aug 2012 | Comments Off on मन की मौज में न भूलें आजादी के मायने | ]
मन की मौज में न भूलें आजादी के मायने

दैनिक भास्कर के संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित आलेख
चण्डीदत्त शुक्ल | Aug 15, 2012, 00:10AM IST

गांव के एक काका की याद आ रही है। रिश्तेदारी का ख्याल नहीं। शायद पुरखों की पट्टीदारी का कोई छोर जुड़ता होगा उनसे, पर हम सब उन्हें काका, यानी बड़े चाचा के बतौर ही जानते-पहचानते और मान देते। काका का असल नाम भी याद नहीं पड़ता। बच्चे-बड़े सब उन्हें मनमौजी कहते। मनमौजी का मतलब मस्त-मौला होने से नहीं था।
काका निर्द्वद्व, नियंत्रण के बिना, इधर-उधर घूमने वाले, दिन भर ऊंघने और शाम को चौपाल में बैठकर नई …

देस-परदेस, है कुछ खास...पहला पन्ना »

[24 Apr 2011 | 2 Comments | ]
Jan Deboutte की नज़र में भारत

दिल्ली में अंतरराष्ट्रीय स्कूल, गांवों में छोटा-छोटा ज्ञान भी नहीं
Jan Deboutte सन् 2007 से लेकर 2011 की शुरुआत तक भारत मे बेल्जियम (Belgium) के राजदूत रह चुके हैं. बेल्जियम पश्चिमी यूरोप का एक देश है, जो यूरोपियन यूनियन के संस्थापक सदस्यों मे से एक है और यहां पर यूरोपियन यूनियन के मुख्यालय के साथ-साथ कई बड़े संगठनों के भी मुख्यालय हैं। इन स्थितियों में यह महत्वपूर्ण बात है कि ऐसे देश के अधिकारियों की भारत के बारे मे क्या राय है, यही जानने का मौका मिला Jan Deboutte …