Home » Archive

Articles in the चर्चाघर Category

चर्चाघर »

[10 Oct 2012 | Comments Off on Children’s Literature Festival at Jaipur | ]

In order to promote books and reading habit among school children, National Centre for Children’s Literature, a wing of National Book Trust, India is holding a 3-day Children’s Literature Festival during the ongoing Jaipur Book Fair at SMS Investment Ground from 10-12 October. Besides a range of book-related activities for the children, a panel discussion on “Do today’s Children like to read folktales and fairytales?” for all those interested in making and dissemination of children’s literature would also be held on 11th October evening.
The …

चर्चाघर, दिल के झरोखे से..., यादें, स्मृति-शेष, है कुछ खास...पहला पन्ना »

[9 Oct 2012 | Comments Off on Baat Nikalegi To Fir Door Talak Jayegi…. | ]
Baat Nikalegi To Fir Door Talak Jayegi….

Jagjit Singh, a journey till eternity….
– GARGI MISHRA
Yes, the talk went quite far and knocked the doors of almost every heart which has a passion for Ghazals and intellectual lyrics and even after a long journey of 35 years the talk is still in the air. The King of Ghazals Late Jagjit Singh tuned the strings of every heart through his melodious voice and his love for poetry. Ghazal Singer Jagjit Singh could touch the essence of love and its agony elegantly weaved into his music.
Jagjit Singh rooted the genre …

चर्चाघर »

[13 Apr 2012 | Comments Off on एक अनूठा फैशन शो | ]
एक अनूठा फैशन शो

मुंबई में पिछले दिनों अपने ढंग के  एक अनोखे  तरह के  फैशन शो का आयोजन हुआ. जिसमें डिजायनर ब्रांड सत्या पॉल  और पूर्व मिस इंडिया और पेंटर अंजना कुठियाला दोनों ने मिलकर कामयाब महिलाओं को सम्मानित किया. इस इवेंट में जिन १३ महिलाओं की पेंटिंग्स का अनावरण किया गया. उनमें मुख्य हैं जयपुर की राजकुमारी दीया कुमारी, वंदना मलिक, प्रिया कटारिया  पुरी, सबा अली खान, सोना गोयल, पूनम सेठी,  साक्षी प्रधान, संगीता मेहता, रेणुका सिंह,  स्वाति पंड्या सूद, अनुकांत दुबे और बॉलीवुड पर राज्य करने वाली अभिनेत्री विद्या बालन. ये …

चर्चाघर, है कुछ खास...पहला पन्ना »

[13 Apr 2012 | Comments Off on विश्वास है, विश्वास है, हमको उजालों की आस है… | ]
विश्वास है, विश्वास है, हमको उजालों की आस है…

राजधानी दिल्ली के सीरीफोर्ट आडिटोरियम में गीत — संगीत का एक कार्यक्रम हुआ जिसे आयोजित किया था ‘विश्वास’ नाम की एक संस्था ने. जो की पिछले ६ सालों से विकलांग बच्चों के स्वास्थ्य, कल्याण व अन्य बुनियादी आवश्यकताओं के लिए काम कर रही है इसी गीत-संगीत के कार्यक्रम में लोकप्रिय गायक कैलाश खेर ने विशेष रूप से लिखे इस एंथम ‘विश्वास है विश्वास है हमको उजालों की आस है कह दो अंधेरों से चल पड़े हैं हम’ को बच्चों के साथ मिलकर गाया. गीतकार प्रसून जोशी के लिखे इस गीत …

चर्चाघर »

[29 Mar 2012 | Comments Off on सम्मानित होंगे साहित्यकार | ]

राजस्थानी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति अकादमी, बीकानेर ने वर्ष 2011-12 के लिए विभिन्न पुरस्कारों की घोषणा कर दी है । गुरूवार को अकादमी अध्यक्ष श्याम महर्षि ने विभिन्न पुरस्कारों के निर्णायकों की संस्तुतियों के आधार पर अकादमी मुख्यालय में पुरस्कार निर्णयों की जानकारी दी । अध्यक्ष महर्षि ने बताया कि दिनांक 14 व 15 मार्च, 2012 को पुरस्कार विषयक तदर्थ उप समिति की बैठक के बाद प्रत्येक पुरस्कार के लिए 3 विद्वानों का निर्णायक मण्डल गठित किया गया ।
महर्षि ने बताया कि वर्ष  2011-12 के लिए 31 हजार का प्रतिष्ठित …